Tuesday, 28 April 2020

JAN GAN MAN RASHTRA-GAN & RASHTRA-GEET IN INDIA

JAN GAN MAN RASHTRA-GAN & RASHTRA-GEET IN INDIA

Rastragan jan gan man


Jan Gan Man RashtraGan & Rashtra Geet India
भारतवर्ष का राष्ट्रगान जनगणमन है।  जब राष्‍ट्रगान गया जाता है तो हमें अपने स्‍थान में खड़े हो कर सदेव सावधान की स्थिति में सम्‍मान देना चाहिए। विशेष अवसरों पर राष्ट्रगान को स्कूलों, सरकारी कार्यलयों आदि में गाया जाता है। इसमें संम्पूर्ण देश के लिए मंगल-कामना भाव है। राष्ट्रगान का सम्मान करना हमारा कर्त्तव्य है।                           

राष्ट्रगान का रचना गुरुदेव रविन्द्रनाथ टैगोर ने की थी। राष्‍ट्रगान को 24 जनवरी 1950 को अपनाया गया। रविन्‍द्रनाथ टेगौर ने सन् 1911 में ही राष्‍ट्रगान की रचना कर ली थी जो बॉंग्‍ला भाषा में लिखा गया था और इसे पहली बार  भारतीय राष्‍ट्रीय बैठक में गाया गया था। राष्‍ट्रगान में एक बदलाव भी किया गया क्‍योकि देश के विभाजन के बाद सिंध पाकिस्‍तान का हो गया था इसलिए  राष्‍ट्रगान में सिंध नाम को सिंधु कर दिया गया।


   जनगणमन-अधिनायक जय हे,

                                      भारत-भाग्य-विधाता!


 पंजाब, सिन्धु, गुजरात, मराठा,

                                       द्राविड़, उत्कल, बंग


   विध्य, हिमाचल, यमुना, गंगा,


                                       उच्छल जलधि-तरंग!

  तव शुभ नामे जागे,

                           तव शुभ आशिष माँगे,


                            गाहे तव जयगाथा।


  जनगण मंगलदायक जय हे,


                                      भारत-भाग्य-विधाता।


 जय हे! जय हे! जय हे!


                          जय जय जय, जय हे!

 Rashtra Geet 

भारवर्ष का राष्‍ट्रीय गीत वन्‍दे मातरम् है। इसके रचना श्री बंकिमचंद्र चट्टोपाध्‍याय जी हैं। इन्‍होंने 1882 में वन्‍दे मातरम् को  संस्‍कृत् तथा बांग्‍लॉ भाषा से मिश्रत कर, लिखा था। इसे पहली बार 1896 में भारतीय राष्‍ट्रीय कॉंग्रेस के सत्र में गाया गया था।


वंदे मातरम्, वंदे मातरम्!

सुजलाम्, सुफलाम्, मलयज शीतलाम्,

शस्यश्यामलाम्, मातरम्!

वंदे मातरम्!

शुभ्रज्योत्सनाम् पुलकितयामिनीम्,

फुल्लकुसुमित द्रुमदल शोभिनीम्,

सुहासिनीम् सुमधुर भाषिणीम्,

सुखदाम् वरदाम्, मातरम्!

वंदे मातरम्, वंदे मातरम्॥


JAN GAN MAN RASHTRA-GAN & RASHTRA-GEET IN INDIA - 

आशा करता हूँ की यह लेख आपको अच्‍छी लगी होगी और इस लेख में किसी प्रकार की मात्राओं की गलती पर क्षमा करें। अगर आपके पास कोई सुझाव है तो हमें नीचे Comment कर सकते है। ऐसे ही लेख और पढ़ाई से रेलेटिव पोईंट, Gk , और अन्‍य महत्त्वपूर्ण जानकारी के लिए हमारे Site – www.learngyan.in पर फिर आइएगा। धन्‍यवाद!
JAN GAN MAN RASHTRA-GAN & RASHTRA-GEET IN INDIA
4/ 5
Oleh